टॉप अप पर्सनल लोन: आपकी पैसों की जरूरत का एक अस्थायी इलाज

Top Up Personal Loan: A solution to Your Temporary Monetary Needs

जिंदगी के कई अहम मौकों पर पैसे उधार लेना जरूरी हो जाता है, चाहे वो घर खरीदने के लिए हो, मेडिकल इमरजेंसी हो या नई कार खरीदने के लिए. आपकी जरूरतों को पूरा करने के लिए कई तरह के लोन खास तौर पर डिजाइन किए गए हैं. इस ब्लॉग में हम जिस पर बात करेंगे, वो है पर्सनल लोन. अपने ऑफर्स और खासियतों के कारण ये लोन पिछले एक दशक में काफी पॉपुलर हुए हैं. इस लोन में रकम के इस्तेमाल पर किसी तरह का प्रतिबंध नहीं होता और न ही कोई गारंटी देनी होती है.

पैसों की बहुत ज्यादा तंगी के वक्त हम में से कई तनाव में आ जाते हैं. पैसे पाने के विभिन्न तरीकों में पर्सनल लोन सबसे ऊपर हैं. लेकिन जिनका पहले से ही पर्सनल लोन चल रहा है, उनके लिए टॉप अप पर्सनल लोन किफायती और आसान विकल्प है. बैंक आसानी से इस लोन को अप्रूव कर देते हैं क्योंकि उसके पास ग्राहकों के दस्तावेज और क्रेडिट हिस्ट्री पहले से ही होती है.

टॉप अप पर्सनल लोन!

टॉप अप पर्सनल लोन वो सुविधा है, जिसे मौजूदा पर्सनल लोन वालों को दिया जाता है. उसके पर्सनल लोन पर ही राशि बढ़ा दी जाती है. यह वास्तव में इमरजेंसी के वक्त सर्वश्रेष्ठ विकल्प है क्योंकि इसमें किसी तरह का दस्तावेजीकरण शामिल नहीं होता और लोन वितरण में बहुत कम समय
लगता है. टॉप अप पर्सनल लोन किसी भी निजी जरूरत के लिए लिया जा सकता है.

टॉप अप लोन सुविधा लेने के लिए योग्यता

– मौजूदा पर्सनल लोन की पेमेंट का साफ-सुथरा रिकॉर्ड
– नौकरी की स्थिरता
– अच्छा CIBIL
– ग्राहक ने कर्जदाता के एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया के मुताबिक न्यूनतम संख्या में ईएमआई का भुगतान किया हो. अधिकतर कर्जदाता कम से 12 ईएमआई का भुगतान मांगते हैं.

टॉप अप पर्सनल लोन के फायदे

तुरंत वितरण: पर्सनल लोन पर टॉप अप को जल्द मंजूरी मिलती है और वितरण भी तेजी से होता है क्योंकि आवेदक अपने पहले पर्सनल लोन में भी इसी लोन प्रक्रिया से गुजर चुका होता है. इतना ही नहीं, कर्जदाता और ग्राहक के बीच रिश्ता भी नया नहीं होता. इसलिए ग्राहक को वेरिफिकेशन में कम समय लगता है. आपातकाल के समय टॉप अप पर्सनल लोन बेहतरीन विकल्प होता है क्योंकि इसमें उस वक्त आपके पास पेपरवर्क कराने का वक्त नहीं होता.

कोई गारंटी नहीं रखनी होती: किसी भी अन्य पर्सनल लोन की तरह, टॉप अप पर्सनल लोन असुरक्षित होता है और लिहाजा, आपको लोन के एवज में कोई गारंटी नहीं रखनी होती.

बहुउद्देशीय: चूंकि यह चल रहे पर्सनल लोन का विस्तार होता है इसलिए टॉप अप पर्सनल लोन भी वही सुविधा मुहैया कराता है. लिहाजा लोन की रकम के इस्तेमाल को लेकर कोई प्रतिबंध भी नहीं होता है, जिससे यह बहुउद्देशीय लोन बन जाता है. यह मेडिकल इमरजेंसी हो सकती है या होम रेनोवेशन, ट्रैवल, हायर एजुकेशन, गैजट खरीदना व बिजनेस की जरूरतों को पूरा करना.

पर्सनल लोन से सस्ता: टॉप अप पर्सनल लोन का एक बड़ा फायदा होता है कम ब्याज दर. आमतौर पर टॉप अप पर्सनल लोन के लिए जो ब्याज दर लगाई जाती है, वो पर्सनल लोन की तुलना में बहुत कम होती है. भले ही यह एक प्रतिशत ही सस्ता हो लेकिन पूरी अवधि में ग्राहक काफी सेविंग्स कर सकता है.

क्या है खामियां

सिर्फ मौजूदा ग्राहकों के लिए: टॉप अप पर्सनल लोन सिर्फ उन ग्राहकों के लिए होता है, जो पहले से ही उस कर्जदाता से लोन ले चुके होते हैं. इसलिए अगर ग्राहक कर्जदाता बदलना चाहता है, वो उसे यह सुविधा नहीं मिलेगी.

कोई टैक्स छूट नहीं: टॉप अप पर्सनल लोन से आपको कोई टैक्स छूट नहीं मिलती. आप टॉप अप लोन से टैक्स तभी बचा सकते हैं, जब लोन की राशि होम रेनोवेशन या एजुकेशन में खर्च हुई हो.

पर्सनल लोन बनाम टॉप अप पर्सनल लोन

– पर्सनल लोन और टॉप अप लोन दोनों का इस्तेमाल पैसा हासिल करने के लिए किया जा सकता है. अगर किसी शख्स ने पहले से ही पर्सनल लोन ले रखा है तो टॉप अप लोन उनके लिए बेहतर विकल्प है. ऐसा इसलिए है क्योंकि एक पर्सनल लोन के वितरण में बहुत कम समय लगता है जबकि एक नया पर्सनल लोन हासिल करने में अधिक समय लग सकता है.

– अगर किसी शख्स की अच्छी रीपेमेंट हिस्ट्री है तो उसका क्रेडिट स्कोर भी अच्छा होगा. ऐसे में उसके लिए पर्सनल लोन टॉप अप हासिल करना मुश्किल नहीं होगा. जबकि पर्सनल लोन आमतौर पर थोड़ा मुश्किल होता है क्योंकि इसके लिए योग्यता का पैमाना सख्त होता है.

– पर्सनल लोन की अधिकतम अवधि 5 साल होती है. जबकि टॉप अप लोन पर्सनल लोन के खत्म होने तक जा सकता है.  लेकिन ऐसा तभी होगा अगर ग्राहक 12 ईएमआई दे चुका है.

– जब कोई शख्स नए लोन के लिए अप्लाई करता है तो उसको सब कुछ शुरू से शुरू करना पड़ता है. सर्वश्रेष्ठ कर्जदाता के लिए रिसर्च करना पड़ता है, लोन के लिए अप्लाई करना होता है, दस्तावेज इत्यादि जमा कराने होते हैं. वहीं टॉप अप लोन में प्रक्रिया काफी छोटी होती है, जो लोन असाइनमेंट होता है.

– जब बात उधार लेने पर विचार की आती है तो पर्सनल लोन टॉप अप लोन की तुलना में महंगा होता है.

– पर्सनल लोन के लिए ग्राहक किसी भी कर्जदाता के पास जा सकता है. जबकि बात टॉप अप लोन की आती है तो आपको उसी कर्जदाता से लेना होता है, जिससे आपका पर्सनल लोन चल रहा है.

टॉप अप लोन पैसों की तंगी के वक्त काफी बेहतर विकल्प है. लेकिन इस सुविधा को लेने के लिए आपका एक पर्सनल लोन चल रहा हो. कोई भी फैसला लेने से पहले सलाह दी जाती है कि अपनी जरूरतों के हिसाब से सही-गलत की पहचान करें.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*