अपने पर्सनल लोन की ईएमआई के भुगतान को कैसे करें मैनेज, ये हैं जरूरी टिप्स

हर शख्स की वित्तीय जरूरतें अलग-अलग होती हैं. चाहे वह इलाज के बिल हों या बच्चे की पढ़ाई. पैसा जिंदगी का एक बेहद अहम पहलू है. हर सपना सिर्फ आपकी सेविंग्स से ही साकार हो सकता है. अकसर लोग अपनी जरूरतें पूरी करने के लिए लोन लेते हैं. यह घर खरीदने के लिए होम लोन, कार खरीदने के लिए कार लोन या पूंजी की जरूरतों के लिए बिजनेस लोन हो सकता है. ऐसी भी स्थिति आ सकती है, जब जरूरतें निजी हों, उस वक्त पर्सनल लोन आपके काम आता है.

यह पूरी तरह असुरक्षित है और आप इसे अपनी जरूरतों के मुताबिक खर्च कर सकते हैं. मुश्किल वक्त में लोन आपकी मदद करता है और आप उस वक्त राहत और खुशी महसूस करते हैं, जब यह मंजूर हो जाता है. लेकिन लोन की चुकौती एक मुश्किल चीज है. इसके लिए पैसे का सही प्रबंधन और वक्त पर ईएमआई चुकाना जरूरी होता है.

समय से पहले लोन बंद करने की सोच रहे हैं? क्या आपको ऐसा करना चाहिए?

यह भी एक फैक्ट है कि हम लोग अपनी रोजमर्रा की जिंदगियों की गिरफ्त में हैं और हम अपनी वित्तीय प्राथमिकताओं को नजरअंदाज कर देते हैं. हम बजट नहीं बनाते, लोन के भुगतान की तारीख को मिस कर देते हैं, क्रेडिट कार्ड के बिल चुकाना भी भूल जाते हैं और जरूरत से ज्यादा खर्च कर बैठते हैं. इससे आपके क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक असर पड़ता है. क्योंकि एक ईएमआई मिस होने से इसमें गिरावट आ जाती है. अच्छा CIBIL स्कोर होना अच्छा है क्योंकि यह आपकी पैसों को लेकर विश्वसनीयता को तय करता है. क्या होगा अगर इस वक्त आपको तुरंत पैसों की जरूरत पड़ जाए? आप अपने कलीग्स से उधार लेंगे? अपने परिवार और दोस्तों से उधार लेंगे? इस स्थिति में तो यही विकल्प बचते हैं. ऐसी स्थितियों से बचने के लिए हमेशा अपने लोन की ईएमआई को वक्त पर ही भरें, ताकि आपकी विश्वसनीयता अच्छी रहे. यहां हम आपको कुछ टिप्स बता रहे हैं ताकि आप पर्सनल लोन ईएमआई को अच्छे से मैनेज कर सकें.

पर्सनल लोन की ईएमआई को मैनेज करने के टिप्स

1. यह इन दिनों अपवाद ही होगा कि कोई शख्स ही ऐसा मिले, जो ईएमआई भुगतान या क्रेडिट कार्ड के पेमेंट के बोझ तले न दबा हो. हालांकि अपनी जरूरतें पूरी करने के लिए पर्सनल लोन लेने में कोई गलत बात नहीं है. लेकिन उतना ही जरूरी अपने फाइनेंस को मैनेज करना भी है. अगर वित्त के मामले में आपकी जिंदगी में अनुशासन है तो पर्सनल लोन की ईएमआई को मैनेज करना काफी आसान हो जाएगा.

2. पर्सनल लोन के लिए अप्लाई करने से पहले हमेशा उसकी ईएमआई पर्सनल लोन ईएमआई कैलकुलेटर पर चेक कर लें. इससे आपको एडवांस में ही मालूम चल जाएगा कि हर महीने आपको कितनी ईएमआई चुकानी होगी. इससे आप खुद ही यह देख सकते हैं कि ईएमआई का आप भुगतान कर भी पाएंगे या नहीं. अगर आप हर महीने ईएमआई का भुगतान नहीं सकते तो ज्यादा राशि का लोन न लें. उतनी ही लोन राशि के लिए अप्लाई करें, जितना आप भुगतान कर सकते हैं.

क्यों इतने मशहूर हैं इंस्टेंट पर्सनल लोन, जानिए इनकी खासियतें

3. किसी भी लोन के लिए अप्लाई करने से पहले चेक करें कि जो रकम आप अपने सभी लोन की ईएमआई के मद्देनजर चुकाएंगे, वह आपकी मासिक आय के 50 प्रतिशत से ज्यादा तो नहीं है. ईएमआई चुकाने के बाद आपके पास अपनी सैलरी का पर्याप्त हिस्सा बचा होना चाहिए ताकि उससे आप पूरे महीने का खर्चा चला सकें.

4. पर्सनल लोन लेने से पहले ऑनलाइन या ऑफलाइन ही रिसर्च करें. विभिन्न बैंकों की दरें ऑनलाइन ही उपलब्ध हैं, जिससे तुलना करना आसान हो गया है. भारत में पर्सनल लोन की ब्याज दरों की तुलना करने के लिए बैंकों और डीएसए की ओर से कई पोर्टल उपलब्ध हैं. समझदारी से कर्जदाता चुनें. एक स्मार्ट ग्राहक बनें और अपनी जरूरत के मुताबिक ही लोन चुनें.

5. एक अच्छा क्रेडिट स्कोर होने से आपको बेस्ट ऑफर्स के साथ-साथ कम ब्याज दरों पर लोन मिलता है. कम ब्याज दर होने का मतलब है कम ईएमआई. इसकी कीमत बहुत ज्यादा होती है. इसलिए हमेशा अपना CIBIL स्कोर बेहतर बनाए रखने की कोशिश करें, ताकि कम ब्याज दरों पर लोन मिल सके.

6. हमेशा मुश्किल भरे दिनों के लिए पैसे बचाएं. ऐसी भी स्थिति आ सकती है, जब आपको तुरंत पैसों की जरूरत पड़ सकती है. इससे आपके फाइनेंशियल प्लान्स खराब हो सकते हैं और भुगतान पर भी असर पड़ सकता है.

 

क्या पर्सनल लोन को समय से पहले चुका देना हमेशा फायदे का सौदा होता है

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*