होम लोन एलिजिबिलिटी बढ़ाना चाहते हैं, अपनाएं ये आसान टिप्स

क्या आप होम लोन लेने की प्लानिंग कर रहे हैं? अगर हां तो क्या आप उस लोन राशि के बारे में जानते हैं जो आपको अप्रूव की जा सकती है? देश में होम लोन का बाजार हर दिन बढ़ रहा है और अब यह जनता को आसानी से उपलब्ध है. चूंकि यह आसानी से लोगों को उपलब्ध हैं इसलिए होम लोन लेना भी आसान है. इसलिए हमारी आपको सलाह है कि अप्लाई करने से पहले अपनी होम लोन एलिजिलिबिटी को अच्छी तरह समझ लें.

क्या है होम लोन एलिजिबिलिटी: होम लोन एलिजिबिलिटी आपके होम लोन की वहन करने की क्षमता तय करता है. यह बताता है कि आपको होम लोन के तहत कितनी राशि मिल जाएगी. होम लोन एलिजिबिलिटी कई चीजों से तय होती है, जैसे ग्राहक की उम्र, आय, किस तरह का रोजगार है, क्रेडिट स्कोर, एम्प्लॉयर इत्यादि.

एक उदाहरण से समझें क्या है होम लोन एलिजिबिलिटी

मिस्टर नरेश 40 साल के हैं और बेंगलुरु की एक मल्टी नेशनल कंपनी में काम करते हैं. उनकी सालाना आय 8 लाख रुपये है. वह बेंगलुरु में 80 लाख रुपये की एक प्रॉपर्टी खरीदना चाहते हैं. लेकिन उनकी होम लोन एप्लिकेशन के रिजेक्ट होने के चांस बहुत ज्यादा है. ऐसा इसलिए क्योंकि कर्जदाताओं के लिए कोई भी लोन एप्लिकेशन अप्रूव करने के लिए योग्यता का एक तय पैमाना है. इस मामले में नरेश जितना लोन चाहते हैं, उनकी सालाना आय का अनुपात उससे कम है. लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि नरेश होम लोन लेने के काबिल नहीं है. मगर उनको इतना ज्यादा होम लोन नहीं मिलेगा.

एक अन्य जरूरी एलिजिलिबिटी क्राइटेरिया, जो आपके होम लोन अप्रूवल या रिजेक्शन के लिए जरूरी है, वो है आपका CIBIL स्कोर. अगर आपका CIBIL स्कोर शानदार है तो होम लोन अप्रूव होने के चांस ज्यादा हैं.

आप सोच रहे होंगे कि क्या होगा अगर हमारी एलिजिबिलिटी कम है तो? क्या हम लोन ले पाएंगे या नहीं? क्या जो अप्रूव होगा, वो राशि कम होगी?

यहां हैं आपके सवालों के सारे जवाब:- आइए आपको बताते हैं कि होम लोन एलिजिबिलिटी को कैसे बढ़ाएं

होम लोन एलिजिबिलिटी बढ़ाने के फैक्टर्स:

– अच्छी रीपेमेंट हिस्ट्री
– आय का निश्चित स्रोत
– CIBIL स्कोर +750
– कामकाजी पति/पत्नी
– एक सह-आवेदक
– एक सह-उधारकर्ता
– अपनी सैलरी से इतर आय का अन्य स्रोत
– कम ऋण उपयोग अनुपात

 

See also: क्या है होम लोन की पूरी प्रक्रिया? जानें शुरुआत से आखिर तक की एक-एक बात

 

अपनी होम लोन एलिजिबिलिटी को बढ़ाने के टिप्स

अपनी पत्नी का नाम सह-आवेदक के तौर पर जोड़ें: अपनी कामकाजी पत्नी को सह-आवेदक के तौर पर जोड़ने से आपकी होम लोन एलिजिबिलिटी बढ़ सकती है. ऐसा करने से आपको कर्जदाता से ज्यादा होम लोन मिल जाएगा.

सह-आवेदक कोई भी हो सकता है. वह आपकी पत्नी/पति, परिवार के लोग या भाई-बहन भी हो सकते हैं. सह-आवेदक जुड़वाने से ईएमआई वहन करने की क्षमता बढ़ जाती है और कर्ज देने वालों को लोन देने में अधिक सुरक्षित लगता है. कई कर्जदाता कम दरों पर भी लोन देने को तैयार हो जाते हैं.

 

आय का अन्य स्रोत जोड़कर: अपनी होम लोन एलिजिबिलिटी बढ़ाने के लिए आप आय का कोई अन्य स्रोत भी जोड़ सकते हैं. इसमें आप अपनी किरायेदारी की आय, पार्ट टाइम बिजनेस, उपकरणों से किराया, फार्म, शेयर इत्यादि अन्य आय के स्रोत के तौर पर जोड़ सकते हैं. अपनी निश्चित आय में इनमें से किसी को भी जोड़ना आपकी अच्छी फाइनेंशियल हेल्थ को दर्शाता है. इसलिए, कर्जदाताओं को आपको ज्यादा लोन राशि उधार देना सुरक्षित लगता है.

 

अपना CIBIL स्कोर बेहतर करें: CIBIL स्कोर एक अहम क्राइटेरिया है, जो तय करता है कि आपकी लोन एप्लिकेशन मंजूर होगी या रद्द. यह एक अहम फैक्टर है, जो आपके होम लोन की योग्यता और लोन के लिए मंजूर होने वाली राशि को तय करता है.

अगर आपका क्रेडिट स्कोर 750 है तो इसे अच्छा माना जाता है. यह आपकी विश्वसनीयता का सबूत है. जिसका CIBIL अच्छा होता है, उन्हें होम लोन देने में कर्जदाताओं को जोखिम नहीं लगता. अच्छे CIBIL का मतलब है कि आपकी पुनर्भुगतान की हिस्ट्री अच्छी रही है.

अगर आप होम लोन लेने के बारे में सोच रहे हैं तो सबसे पहले अपना CIBIL स्कोर पता लगाएं. अगर यह कम है तो इसे सुधारने के लिए कदम उठाएं.

अपने पिछले कर्ज चुका दें: पिछले कर्ज चुकाने से न सिर्फ आपका क्रेडिट स्कोर मजबूत होगा बल्कि आपका क्रेडिट उपयोग अनुपात भी घटेगा. यह आपकी होम लोन एलिजिबिलिटी को बढ़ाएगा. इसके अलावा कुछ सेविंग्स और इन्वेस्टमेंट्स के जरिए भी आप होम लोन एलिजिबिलिटी को बढ़ा सकते हैं.

कैसे बढ़ाएं अपनी होम लोन एलिजिबिलिटी

– अपने क्रेडिट कार्ड का कर्ज चुका दें.
– बिना किसी चूक के अपने बिल्स भरें और वक्त पर अपनी ईएमआई चुकाएं.
– अपना क्रेडिट स्कोर हर 6 महीने में चेक करें.
– अपने होम लोन में माता-पिता या पत्नी-पति को बतौर सह-आवेदक जोड़ें.
– लंबी पुनर्भुगतान की अवधि चुनें.
– आय के अन्य स्रोतों जैसे निवेश से रिटर्न्स इत्यादि की घोषणा करें.
– किसी नामी बिल्डर का अच्छा रियल एस्टेट प्रोजेक्ट चुनें.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*