जानिए क्रेडिट विश्वसनीयता बढ़ाने के कुछ जरूरी टिप्स

Tips To Improve Your Credit Worthiness

अगर आपको कोई लोन लेना है तो कर्ज देने से पहले कर्जदाता आपकी पैसों को लेकर विश्वसनीयता चेक करेगा. विशेष रूप से ये ऐसी स्थिति सच में है, जिसका हम आज सामना कर रहे हैं. आज लोगों की चुकौती क्षमता बुरी तरह प्रभावित हो रही है क्योंकि नौकरियों और इनकम को जबरदस्त झटका लगा है. लेकिन अगर आपने अपना क्रेडिट प्रोफाइल अच्छे से मेंटेन किया है, जो चांस हैं कि आपको इस समय में भी मनचाहा लोन मिल जाए. आइए नीचे आपको कुछ पॉइंट्स बताते हैं, जिनके जरिए आप अपनी क्रेडिट विश्वसनीयता को बढ़ा सकते हैं.

कितना अमाउंट आपको लेना चाहिए

हमेशा ध्यान रखें कि जो भी राशि आप उधार लेंगे, उसे ब्याज के साथ एक निश्चित अवधि में चुकाना होगा. आपको उतनी ही राशि लोन के रूप में लेनी चाहिए, जो आप ब्याज के साथ आसानी से चुका सकें. यह न भूलें कि अगर आप रीपेमेंट में किसी भी तरह का डिफॉल्ट करते हैं तो इससे आपके क्रेडिट प्रोफाइल पर असर पड़ेगा और भविष्य में उधार लेने के चांस पर असर पड़ेगा. इसलिए अच्छा आइडिया यही है कि आप ऐसी लोन राशि चुनें, जिसे आप किसी भी स्थिति में आसानी से चुका सकें.

लोन की अवधि

लोन की अवधि को लंबा रखना भी अच्छा विकल्प है. इससे आपकी मासिक किस्त कम हो जाएगी. यह न भूलें कि जितनी कम ईएमआई होगी, उतना ही भुगतान करने में आसानी होगी. सुनिश्चित करें कि आप ऐसी स्थिति में फंसें, जहां आपको बकाया राशि के भुगतान में देरी या डिफॉल्ट के लिए मजबूर होना पड़े.

लोन अफोर्डेबिलिटी

विभिन्न कर्जदाताओं द्वारा मुहैया कराए जा रहे लोन्स की तुलना करें. इससे ग्राहक अपने लिए सबसे किफायती लोन चुन पाएगा. नए जमाने के कर्जदाता कई आकर्षक ऑफर्स और रीपेमेंट ऑप्शन्स लेकर आए हैं. इसलिए एक रिसर्च बेहद जरूरी है ताकि आप सर्वश्रेष्ठ ब्याज दर, फ्लेक्सिबल रीपेमेंट विकल्प, पार्ट पेमेंट इत्यादि का पता लगा सकें. यह बेहद जरूरी है कि आप लोन ऐसा लें, जो आपकी जेब को सूट करे. यह मत भूलें कि अपने क्रेडिट प्रोफाइल को खराब होने से बचाने के लिए लोन चुकाना जरूरी है. साथ ही ऐसे कर्जदाता को चुनें जो आपको सर्वश्रेष्ठ ब्याज दरें, फ्लेक्सिबल रीपेमेंट ऑप्शन्स इत्यादि दे ताकि लोन चुकाना आपके लिए कभी सिरदर्द न बने.

लोन इंश्योरेंस लें

लोन रीपेमेंट्स को कवर करने के लिए लोन इंश्योरेंस डिजाइन किया गया है. स्थायी या अस्थायी विकलांगता, नौकरी जाने या फिर किसी अन्य संकट के वक्त ये मददगार साबित होता है. जब ग्राहक अपने ईएमआई दायित्वों का भुगतान करने में सक्षम नहीं होता तो लोन बीमा सारे कर्ज को कवर करता है. लोन इंश्योरेंस ग्राहक के कर्ज को डिफॉल्ट से बचाने की एक ढाल है.

कर्ज चकबंदी

सभी मौजूदा लोन्स को सिंगल लो कॉस्ट पर्सनल लोन में शामिल करने से उधारकर्ता को कभी भी निराश नहीं होना पड़ेगा. चूंकि मुख्य मकसद है किफायती कर्ज लेना इसलिए सर्वश्रेष्ठ सलाह यही है कि सभी मौजूदा लोन्स को एक ही पर्सनल लोन में समायोजित करा लिया जाए, जिससे आपको कम ब्याज दर मिले और बेहतर रीपेमेंट ऑप्शन भी. इसी तरह आप सभी क्रेडिट कार्ड्स के बकाया बिल्स को भी समायोजित कर सकते हैं, जिससे कर्ज के भुगतान पर आप डिफॉल्ट से बच जाएंगे और इससे ग्राहक की क्रेडिट प्रोफाइल भी काफी हद तक बढ़ेगी.

वक्त पर ईएमआई देना जरूरी

ग्राहक को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वह बिना चूके वक्त पर सारी ईएमआई चुकाए. वक्त पर कर्ज चुकाना बेहद जरूरी है क्योंकि कर्ज लंबे समय तक चलता है और ग्राहक को अपने कर्तव्यों के प्रति जिम्मेदार बनाता है. यह आपके क्रेडिट प्रोफाइल में भी जुड़ेगा, जिससे आपकी क्रेडिट विश्वसनीयता बढ़ेगी. ये सारे प्रयास इस बात को लेकर है कि ईएमआई पेमेंट्स हमेशा वक्त पर किए जाएं.

कर्ज लेकर जरूरतें पूरी करना एक आम बात है.  लेकिन समझने वाली बात यह है कि अगर आप विश्वसनीय नहीं होंगे तो लोन पाना बेहद मुश्किल हो जाएगा. ऊपर बताए गए पॉइंट्स पर अगर आप विचार करेंगे तो कभी भी क्रेडिट प्रोफाइल खराब नहीं होगी और विश्वसनीयता बरकरार रहेगी. इससे आपको भविष्य में भी लोन लेने में आसानी होगी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*