बिजनेस लोन वित्तीय तौर पर फायदेमंद क्यों होते हैं, जानिए

वर्किंग कैपिटल और कैश फ्लो को बनाए रखने के लिए हर बिजनेस को समय-समय पर फंड की जरूरत होती है. बिजनेस मालिकों को व्यावसायिक कामों के लिए वर्किंग कैपिटल के सुचारू प्रवाह की आवश्यकता होती है. इससे फायदा बढ़ता है. वहीं मशीनों की खरीदारी, कर्मचारियों की हायरिंग और ट्रेनिंग, बिजनेस को ऊंचाइयों पर ले जाना या इन्वेंट्री बढ़ाने या खरीदने के लिए बिजनेस लोन काफी अहम होता है.

मार्केट में कई कर्जदाता हैं, जो बिजनेस लोन देते हैं. व्यापारियों के पास कई विकल्प होते हैं, जहां से वे बिजनेस लोन्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं. इसमें एनबीएफसी, क्राउड फंडिंग और सरकारी संस्थान शामिल हैं.

आइए आपको बताते हैं कि लंबी अवधि के लिए बिना सिक्योरिटी के बिजनेस लोन के क्या फायदे होते हैं.

फ्लेक्सिबिलिटी: बिजनेस की जरूरत को देखते हुए व्यापारी विभिन्न तरीकों के छोटे ऋणों के लिए अप्लाई कर सकते हैं. इसमें शॉर्ट टर्म लोन और लॉन्ग टर्म लोन्स होते हैं, जिनकी पुनर्भुगतान अवधि और राशि अलग-अलग होती है.

बिजनेस की अनुमानित गुणा-भाग को देखते हुए व्यापारी लोन की अवधि चुन सकता है. आमतौर पर शॉर्ट टर्म लोन को 2 साल तक जबकि लॉन्ग टर्म लोन को 5 से 10 साल या उससे ज्यादा तक भी बढ़ाया जा सकता है.

मैनेज वर्किंग कैपिटल:  बिजनेस लोन उस वक्त बेहद अहम साबित होते हैं, जब व्यापार को वर्किंग कैपिटल की जरूरतों के लिए फंड की आवश्यकता हो. पर्याप्त वर्किंग कैपिटल होने से अच्छे या बुरे वक्त में कैश-फ्लो बरकरार रहता है. चूंकि बिजनेस का वातावरण बदलता रहता है, पर्याप्त वर्किंग कैपिटल और बिजनेस लोन्स से आपकी आर्थिक स्थिरता को बल मिलता है.

किफायती बिजनेस लोन की दरें

एनबीएफसी और बैंक दोनों के ही पास प्रतिस्पर्धी कम दरों वाले छोटे बिजनेस लोन उपलब्ध हैं. यह भी ध्यान रखें कि लोन ब्याज दरें विभिन्न कारकों पर आधारित होती हैं जैसे जमानत की पेशकश, लोन की अवधि और ग्राहकों की विश्वसनीयता. प्रतिस्पर्धी ब्याज दरों के अतिरिक्त एनबीएफसी में मामूली प्रोसेसिंग फीस होती है और कोई प्री-पेमेंट चार्ज भी नहीं देना पड़ता. लिहाजा व्यापारी पैसे बचाकर अपने बिजनेस को नई ऊंचाइयों पर ले जा सकता है.

आसान रीपेमेंट ऑप्शन: NBFC बिजनेस लोन्स में काफी बेहतर रीपेमेंट ऑप्शन्स आते हैं, जिससे व्यापारी आसानी से किश्तों में लोन चुका सकते हैं. व्यापारी बिजनेस के गुण के मुताबिक चुकौती योजना का पता लगाने के लिए काम कर सकता है. व्यापार की लाभप्रदता के मुताबिक मालिक ईएमआई को घटा या बढ़ा सकता है.

इसके अलावा, कर्जदाता बिजनेस लोन ईएमआई कैलकुलेटर भी मुहैया कराते हैं, ताकि लोन अवधि की ईएमआई पता लगाई जा सके. इसके अलावा बिजनेस ओनर्स ऑटो-फैसिलिटी भी चुन सकते हैं ताकि हर महीने खुद-ब-खुद बैंक अकाउंट से राशि कट जाए.

असुरक्षित बिजनेस लोन

एनबीएफसी और ऑनलाइन ऋण देने वाले संस्थान अनुप्रासंगिक मुक्त व्यापार ऋण देते हैं.  लिहाजा व्यापारी को बिजनेस लोन लेने के लिए किसी संपत्ति को बतौर गारंटी नहीं रखवाना पड़ता.

इससे छोटे बिजनेस मालिक अपने व्यापार के लिए फंड ले सकते हैं. इसके अलावा, बिना सिक्योरिटी बिजनेस लोन के लिए जरूरी दस्तावेज बहुत कम हैं, जिससे यह आसान और तेज होती है.

क्रेडिट रिकॉर्ड बनाएं: बिजनेस क्रेडिबिलिटी और क्रेडिट रिकॉर्ड बनाने के लिए छोटी अवधि के छोटे लोन अच्छा विकल्प है. बिजनेस के लिए लोन समय पर चुकाने से क्रेडिट स्कोर बढ़ता है. इससे आप जरूरत पड़ने पर भविष्य में और बड़ा लोन ले सकते हैं. लिहाजा बिजनेस लोन कई वित्तीय फायदों के साथ आता है. फंड का इस्तेमाल कई मामलों में किया जा सकता है. इससे बिजनेस में फायदा भी मिलता है.

यह अनिवार्य है कि आप सही बिजनेस लोन प्रॉडक्ट चुनें और लोन अप्लाई करने से पहले बिजनेस मालिक अपनी जरूरतों का मूल्यांकन जरूर कर लें. सही लोन प्रॉडक्ट चुनना अहम है. जब आप बिजनेस लोन चुनते हैं और सारी जरूरतों को जानते हैं तो जल्द फंड हासिल कर पाते हैं.

Leave a Comment