बिना गारंटी वाले बिजनेस लोन के फायदे और नुकसान

Pros And Cons Of Business Loan Without Collateral

बिजनेस लोन्स वे वित्तीय उत्पाद होते हैं, जो बिजनेस मालिकों को उनकी वित्तीय जरूरतें पूरी करने में मदद करते हैं. इस लोन के जरिए बिजनेस मालिक अपने उपकरण के खर्चे, वर्किंग कैपिटल और अन्य अहम जरूरतों को पूरा करते हैं. बिजनेस मालिक अन्य जरूरतें जैसे पेरोल, बिल्स, रेनोवेशन, मार्केटिंग बजट इत्यादि को भी पूरा कर सकते हैं.

यकीनन बिजनेस लोन किसी बिजनेस मालिक के लिए बेहद मददगार होता है. लेकिन जब वह लोन लेने के बारे में सोचता है तो वह इस बात को लेकर भ्रम में होता है कि सुरक्षित बिजनेस लोन चुनें या फिर असुरक्षित बिजनेस लोन.

सुरक्षित लोन वह होता है, जहां कर्जदाता के पास आपको कोई सिक्योरिटी रखवानी पड़ती है. लोन डिफॉल्ट के मामले में सुरक्षित लोन कर्जदाताओं को एक सुरक्षा का अनुभव कराते हैं. क्योंकि वे अपने नुकसान को पूरा करने के लिए उस सिक्योरिटी को बेच सकते हैं. हालांकि ग्राहक को अपनी संपत्ति जोखिम में डालनी पड़ती है.

दूसरी ओर, असुरक्षित लोन में कोई भी चीज बतौर सिक्योरिटी नहीं रखनी पड़ती. ग्राहक को अपनी संपत्ति या प्रॉपर्टी भी जोखिम में नहीं डालनी होगी. इस खासियत के कारण अधिकतर छोटे बिजनेस मालिक असुरक्षित बिजनेस लोन का विकल्प चुनते हैं क्योंकि उनके पास आमतौर पर कर्जदाता को देने के लिए कोई सिक्योरिटी होती ही नहीं है.

आइए अब आपको असुरक्षित या गारंटी रहित बिजनेस लोन्स के फायदों और नुकसान के बारे में बताते हैं.

असुरक्षित लोन्स के फायदे

कोई गारंटी नहीं: असुरक्षित बिजनेस लोन पाने के लिए आपको कोई भी सिक्योरिटी या गारंटी नहीं रखनी होती. बिना कोई संपत्ति जोखिम में डाले आपको फंड मिल जाता है. इसके अलावा किसी गारंटर की भी जरूरत नहीं पड़ती. अब जबकि आपको कर्जदाता के पास कोई चीज गिरवी नहीं रखनी है तो किसी प्रॉपर्टी के जब्त होने का डर भी नहीं है.

फास्ट अप्रूवल: जब आप सुरक्षित लोन लेते हैं तो कर्जदाता कुछ वक्त आपकी संपत्ति की वैल्यू की गणना करने में बिताते हैं ताकि लोन की राशि तय की जा सके. चूंकि आपको गारंटी नहीं रखनी है तो समय की बचत होगी और लोन की प्रक्रिया में तेजी आएगी. इसके अलावा एक खबर यह भी है कि एनबीएफसी बिजनेस लोन को तीन दिन से भी कम समय में वितरित और अप्रूव करते हैं.

बेहतर होगी क्रेडिट हिस्ट्री: अगर आप अपनी क्रेडिट हिस्ट्री बेहतर करना चाहते हैं तो असुरक्षित लोन से बेहतर कोई तरीका नहीं है. विस्तार के चरण में, आपके बिजनेस को और ज्यादा पूंजी की जरूरत होती है. लोन देने से पहले सारे कर्जदाता आपकी क्रेडिट हिस्ट्री देखते हैं और जिन ग्राहकों की क्रेडिट हिस्ट्री नहीं होती, उन्हें ग्राहक लोन नहीं देते. लोन लेने के बाद आपको वक्त पर ईएमआई चुकानी होगी.

फ्लेक्सिबल रीपेमेंट ऑप्शन्स: अधिकतर असुरक्षित लोन्स एनबीएफसी द्वारा दिए जाते हैं क्योंकि वे जोखिम लेने की चाह रखते हैं. साथ ही एनबीएफसी फ्लेक्सिबल रीपेमेंट ऑप्शन्स भी देते हैं. जो आपके बिजनेस के वित्त के अनुरूप हो, आप उस रीपेमेंट शेड्यूल को चुन सकते हैं. यह आपको उस पेनल्टी से भी बचाएगा, जो आपको ईएमआई के देर से भुगतान के कारण चुकानी पड़ सकती है.

असुरक्षित लोन के नुकसान

क्रेडिट स्कोर: चूंकि असुरक्षित लोन्स के लिए किसी गारंटी की जरूरत नहीं है, इसलिए कर्जदाता आपका क्रेडिट स्कोर चेक करते हैं. इसलिए आपका क्रेडिट स्कोर ज्यादा होना चाहिए. जैसा कि बताया गया कि एनबीएफसी ऐसे ग्राहकों को भी कर्ज देते हैं, जिनका क्रेडिट स्कोर 600 या उससे ज्यादा होता है.

ब्याज दर: ग्राहकों के लिए असुरक्षित लोन थोड़े रिस्की होते हैं क्योंकि डिफॉल्ट की स्थिति में ग्राहकों को बचाने के लिए कोई सिक्योरिटी नहीं होती. इसके अलावा असुरक्षित लोन्स की ब्याज दरें भी ज्यादा होती हैं. लेकिन एनबीएफसी बिना किसी गारंटी के बेहद प्रतिस्पर्धी दरों पर ब्याज दरें देते हैं.

डॉक्युमेंटेशन: हालांकि लोन लेते वक्त संपत्ति के कागजात मुहैया कराने की कोई जरूरत नहीं पड़ती, लेकिन कुछ दस्तावेज चाहिए होते हैं. ग्राहकों की एलिजिबिलिटी चेक करने के लिए कर्जदाता कुछ दस्तावेजों की सूची मांगते हैं. एनबीएफसी को एप्लिकेशन प्रोसेस करने के लिए न्यूनतम दस्तावेज चाहिए होते हैं. इन दस्तावेजों में पैन कार्ड, जीएसटी स्टेटमेंट, घर और दफ्तर का अड्रेस प्रूफ और बैंक स्टेटमेंट शामिल होते हैं.

असुरक्षित बिजनेस लोन लेने से पहले उसके फायदे और नुकसान को जान लेना बेहद जरूरी है. अब जबकि हमने आपको फायदे और नुकसान के बारे में बता दिया है आप एक बेहतर फैसला ले सकते हैं. ऊपर जो आपको पॉइंट्स हमने बताए, उससे साफ होता है कि बिना गारंटी वाला असुरक्षित बिजनेस लोन बहुत फायदेमंद है और इसके लिए सर्वश्रेष्ठ कर्जदाता एनबीएफसी है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*