शेयर्स के एवज में लोन: जानिए योग्यता, जरूरी दस्तावेज और फायदों के बारे मे

Loan Against Shares

Loan Against Shares: शेयर्स के एवज में लोन आमतौर पर वह उधार सुविधा है, जो बैंक और एनबीएफसी शेयर्स, इंश्योरेंस पॉलिसी, म्यूचुअल फंड्स, बॉन्ड्स जैसी सिक्योरिटीज के एवज में ग्राहक या उसके रिश्तेदारों को देते हैं. अहम जरूरतों के लिए यह तुरंत पैसे की कमी को पूरा करता है, वो भी निवेश को सुरक्षित रखते हुए. सिक्योरिटी केवल कर्जदाता बैंक की ओर से रोकी जाती है और ग्राहक के नाम पर बची हुई होती है.

सीधे शब्दों में कहें तो व्यक्ति लाभांश, अधिकार और बोनस जैसे कुछ शेयरधारक भत्तों का लुत्फ ले सकता है. आप भौतिक शेयरों के लिए न्यूनतम 1 लाख रुपये और अधिकतम 10 लाख रुपये तक का लोन हासिल कर सकते हैं, और डीमैट शेयरों के लिए 20 लाख रुपये तक का लोन ले सकते हैं.

इस्टेंट लोन पाने के लिए क्या हैं विकल्प? मिलेंगे ये फायदे

Loan Against Shares निम्नलिखित सिक्योरिटीज के खिलाफ दिया जाता है:

– यूटीआई बॉन्ड्स
– NABARD बॉन्ड्स
– गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर्स
– इंश्योरेंस पॉलिसीज
– म्यूचुअल फंड्स
– डीमैट शेयर्स

Loan Against Shares कैसे काम करता है?

आपके द्वारा सिक्योरिटीज जमा कराने के बाद ओवरड्राफ्ट सुविधा के जरिए यह लोन सुविधा आपको दी जाएगी. आप सुविधानुसार खाते से पैसा निकाल सकते हैं और सिर्फ इस्तेमाल की हुई राशि पर ही आपको ब्याज देना होगा.

Loan Against Shares लेने से पहले इन बातों का रखें ध्यान

1. एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया चेक करें: शेयरों के एवज में लोन के लिए अप्लाई करने के लिए अपना एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया चेक करें और लोन लेने से पहले देखें कि क्या      आप विभिन्न वित्तीय संस्थानों से लोन लेने लायक हैं या नहीं. इस तरह के लोन लेने के लिए ग्राहक की उम्र कम से कम 21 साल होनी चाहिए.

लोन एप्लिकेशन खारिज होने के लिए जिम्मेदार अप्रत्याशित कारण

2. ऐसे वित्तीय संस्थान चुनें, जो सुरक्षा के रूप में विविध निवेश मंजूर करते हैं: शेयर्स के एवज में लोन लेने के लिए आपको विभिन्न कर्जदाता खोजने होंगे, जो निवेश के              विभिन्न रूप जैसे आईपीओ, पार्टनर कंपनियों से इंश्योरेंस पॉलिसी, म्यूचुअल फंड्स, रिटेल शेयर्स और अन्य पर विचार करते हों.

3. ब्याज दरों पर विचार करें: शेयर्स के एवज में लोन की ब्याज दरें सिर्फ उसी राशि और अवधि पर लगती हैं, जिसके लिए ओवरड्राफ्ट सुविधा का इस्तेमाल होता है और उसे हर        महीने चुकाना पड़ता है. ऐसे बैंक या एनबीएफसी चुनें, जो गारंटी के एवज में ज्यादा लोन राशि दें. ऐसे कई कर्जदाता हैं जो सिक्योरिटीज पर निर्भर करते हुए ऊंची और बेहतर        लोन राशि किफायती ब्याज दरों पर मुहैया कराते हैं.

4. भुगतान अवधि: इस तरह का लोन लेने के लिए हमेशा बैंक या एनबीएफसी का सहारा लें, जो आपको भुगतान अवधि में सहूलियत देंगे. आमतौर पर, भुगतान अवधि 1-3             साल के लिए होती है. हालांकि भुगतान अवधि आपके द्वारा चुनी गई लोन राशि पर निर्भर करती है.

5. समय से पहले लोन बंद करने के प्रीपेमेंट चार्जेज: अन्य लोन्स के विपरीत, अगर आप समय से पहले ये लोन बंद कराते हैं तो कोई प्री-पेमेंट चार्ज नहीं देना होगा. लोन पूरी           तरह चुका दिए जाने के बाद, वित्तीय संस्थान आपकी सारी सिक्योरिटीज वापस कर देगा.

Loan Against Securities लेने के जरूरी दस्तावेज

नौकरीपेशा लोगों के लिए

– आईडी और अड्रेस प्रूफ
– फोटोग्राफ
– पैन कार्ड
– पिछले 6 महीने की बैंक स्टेटमेंट
– रद्द किए हुए चेक
– आय का प्रमाण
– डीमैट अकाउंट स्टेटमेंट

खुद के रोजगार वाले|

– पैन कार्ड
– आईडी और अड्रेस प्रूफ
– फोटोग्राफ
– पिछले 6 महीने के बैंक स्टेटमेंट
– रद्द किए हुए चेक
– डीमैट अकाउंट स्टेटमेंट
– इनकम प्रूफ
– लाभ और नुकसान के खाते की बैलेंस शीट
– ऑफिस अड्रेस प्रूफ और बिजनेस की मौजूदगी का सबूत

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*