बिना इनकम टैक्स रिटर्न्स के कैसे पाएं बिजनेस लोन? ये है तरीका

Income Tax Return Business Loan

क्या आप बिजनेस लोन लेना चाहते हैं लेकिन इनकम टैक्स रिटर्न्स (ITR) नहीं है. तो चिंता न करें.

उभरते व्यापारी और पहली बार व्यापार शुरू करने वाले लोगों के पास आईटीआर फाइल करने के लिए बिजनेस का पर्याप्त अनुभव नहीं होता. लेकिन इससे यह साबित नहीं होता कि ये अपना व्यापार शुरू करने के लिए बिजनेस लोन लेने के योग्य नहीं हैं. आज की बैंकिंग और फाइनेंशियल मार्केट में कई प्राइवेट, सरकारी बैंक, एनबीएफसी और एमएफआई हैं, जो किफायती दरों और बेहतर भुगतान विकल्पों के साथ बिजनेस लोन मुहैया कराते हैं. लेकिन बिजनेस लोन कम ब्याज दरों पर लेने के लिए आपको आईटीआर फाइल करना होगा ताकि आप बिजनेस की पूंजीगत जरूरतों को पूरा कर सकें.

स्टार्टअप एंटरप्राइजेज, छोटे उद्योग, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग (MSME) के उभरने से बिजनेस लोन की जरूरतें भी बढ़ गई हैं. लिहाजा आकर्षक ब्याज दरों पर बिजनेस लोन लेने के लिए आईटीआर के साथ-साथ आपका क्रेडिट स्कोर भी अच्छा होना चाहिए. बिजनेस लोन मंजूर करने से पहले वित्तीय संस्थान आपकी फाइनेंशियल स्टेटमेंट, आईटीआर डॉक्युमेंट्स, इनकम प्रूफ, क्रेडिट स्कोर, पहचान पत्र, अड्रेस व बिजनेस अड्रेस प्रूफ देखते हैं.

बिना आईटीआर के बिजनेस लोन कैसे पा सकते हैं

– व्यक्तिगत, कंपनियों, ट्रेडर्स,रिटेलर्स, मैन्युफैक्चरर्स,  लिमिटेड लायबिलटी पार्टनरशिप्स (LLPs), पार्टनरशिप, सोल प्रोपराइटर्सशिप्स, एनजीओ, ट्रस्ट्स, को-ऑपरेटिव्स             सोसाइटीज इत्यादि बिजनेस लोन लेने के योग्य हैं.
– स्टार्टअप एंटरप्राइजेज, फर्स्ट टाइम बिजनेस ओनर्स, स्वयं-रोजगार वाले पेशेवर भी इसके काबिल हैं.
– न्यूनतम उम्र- लोन एप्लिकेशन के वक्त 18 साल.
– अधिकतम उम्र- लोन मैच्योरिटी के वक्त 65 साल
– लोन की राशि-न्यूनतम 10000 रुपये और अधिकतम 10 करोड़ रुपये या उससे ज्यादा. यह आपकी बिजनेस की जरूरतों और आवेदक की प्रोफाइल पर निर्भर करता है.
– क्रेडिट स्कोर 700 से ज्यादा और 900 के जितना पास होगा, उतना अच्छा माना जाता है.
– सह-आवेदक यह वैकल्पिक है, आवेदक के मुताबिक.
– टर्नओवर: इसे कर्जदाता परिभाषित करता है और हर बैंक में यह अलग-अलग होता है.
– गारंटी: इसकी जरूरत नहीं है (इसमें उपकरण वित्त, बिल डिस्काउंटिंग, लेटर ऑफ क्रेडिट इत्यादि)

कई बार प्राइवेट और सार्वजनिक क्षेत्रों के बैंकों से बिजनेस लोन मिलना मुश्किल होता है. कुछ ही वित्तीय संस्थान ऐसे हैं, जो बिना आईटीआर चेक किए बिजनेस लोन देते हैं. जिन व्यक्तियों के पास आईटीआर नहीं होता, वे बिजनेस लोन लेने के लिए एनबीएफसी या एमएफआई का रुख कर सकते हैं. लेकिन इन वित्तीय संस्थानों की ब्याज दरें ज्यादा होती हैं. बिना आईटीआर के बिजनेस लोन लेने का दूसरा विकल्प या फिर इनकम प्रूफ है प्रॉपर्टी के एवज में लोन.

बिजनेस लोन व्यापार के विभिन्न मकसदों जैसे बिजनेस एक्सपैंशन, प्लांट या मशीनरी खरीदना, जमीन या ऑफिस की जगह व कच्चा माल खरीदने, स्टॉक व इन्वेंट्री बढ़ाने, सैलरी देने, ऋण चकबंदी, नई हायरिंग, ट्रेनिंग प्रोग्राम्स व अन्य के काम आता है.

बिना आईटीआर बिजनेस लोन लेने के लिए इन दस्तावेजों की पड़ती है जरूरत

– अच्छे से भरा गया एप्लिकेशन फॉर्म
– पासपोर्ट साइज फोटो
– शानदार बिजनेस प्लान
– पहचान पत्र-वोटर आईडी कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस
– बिजनेस की मौजूदगी और अड्रेस प्रूफ
– कंपनी का पैन कार्ड, व्यक्तिगत व पार्टनशिप्स, जो भी लागू हो.
– रिहायश का प्रूफ: ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आईडी कार्ड, पासपोर्ट, इलेक्ट्रिसिटी बिल, बैंक स्टेटमेंट, रेंट अग्रीमेंट इत्यादि.
– पार्टनरशिप डीड या एमओए (मेमोरेंडम ऑफ असोसिएशन)
– शॉप्स एंड एस्टेब्लिशमेंट सर्टिफिकेट व रेंट अग्रीमेंट
– करंट अकाउंट बैंक स्टेटमेंट

जो एंटरप्रेन्योर्स बिना आईटीआर के बिजनेस लोन लेना चाहते हैं, वे पिछले कुछ वर्षों में भारत सरकार द्वारा लाई गईं ऋण योजनाओं जैसे प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY) के तहत मुद्रा लोन, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन प्रोग्राम (PMEGP), नेशनल स्मॉल इंडस्ट्रीज कॉरपोरेशन (NSIC) सब्सिडी, पीएसबी लोन्स इन 59 मिनट्स, स्टैंड अप इंडिया, SIDB मेक इन इंडिया सॉफ्ट लोन फंड फॉर MSME (SMILE) इत्यादि की भी तुलना कर सकते हैं. सभी लोन स्कीम्स बिना किसी गारंटी या सिक्योरिटी के दी जाती हैं. और बिना आईटीआर वाले लोन के लिए आप इन स्कीम्स की आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं.

हर वित्तीय संस्थान अपने नियम व शर्तों पर बिजनेस लोन देता है. लिहाजा यह सलाह दी जाती है कि उनकी ब्याज दरें, भुगतान अवधि, फोरक्लोजर चार्जेज और लोन की राशि की डील फाइनल करने से पहले तुलना जरूर कर लें.

क्रेडिट स्कोर कम ब्याज दरों पर लोन हासिल करने में अहम भूमिका निभाता है, भले ही आपके पास जमा करने के लिए आईटीआर न हो. क्रेडिट स्कोर किसी शख्स की पैसों को लेकर विश्वसनीयता और चुकाने की क्षमता बताता है. 700 से ज्यादा और 900 के करीब का कोई भी CIBIL बैंकों और एनबीएफसी द्वारा अच्छा माना जाता है. क्रेडिट स्कोर रातों-रात नहीं बदलता. इसमें बदलाव दिखने में कुछ महीनों का समय लगता है. जो वित्तीय दस्तावेज बैंक क्रेडिट ब्यूरोज को देते हैं, उससे क्रेडिट स्कोर निर्धारित होता है. लेकिन अगर इसे अच्छे से रखा गया तो आपको जरूरी कैश जरूरतों, कैश फ्लो बढ़ाने और वर्किंग कैपिटल की जरूरतों को पूरा करने के लिए बिजनेस लोन लेने में मदद मिलेगी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*