भारत में कैसे पाएं मशीनों के लिए लोन, इन दस्तावेजों की पड़ेगी जरूरत

इक्विपमेंट फाइनेंस उन बिजनेसमैन के लिए बेहतर विकल्प है, जो नए इक्विपमेंट या मशीनरी खरीदना चाहते हैं, वो भी अपनी वर्किंग कैपिटल को खर्च किए बिना. लेकिन कई कारोबारी मानते हैं कि इक्विपमेंट लोन का विकल्प सिर्फ बड़े कारोबारियों के लिए होता है, जो बिजनेस में अच्छा पैसा कमा रहे हैं.

लेकिन मशीनरी लोन छोटे बिजनेस के लिए भी लिया जा सकता है. अगर आप सोच रहे हैं कि इक्विपमेंट फाइनेंस कंपनी आपसे मशीनरी के लिए कोई चीज गिरवी रखने को कहेगी, तो आप गलत हैं. आप बिना कोई चीज गारंटी रखे मशीनरी लोन ले सकते हैं. आप यह जानकर भी खुश होंगे कि भारत में ऐसे कई कर्जदाता हैं जो असुरक्षित इक्विपमेंट फाइनेंस लोन देते हैं. इसलिए सिर्फ आपको सही कर्जदाता की खोज करनी होगी.

अच्छा फैसला लेने के लिए आपको यह पता होना चाहिए कि आपको मशीनरी लोन क्यों चाहिए और कितने पैसों की आपको जरूरत है. ज्यादा जानकारी के लिए आगे पढ़ें.

क्या है इक्विपमेंट फाइनेंसिंग

भारत में बिजनेस के लिए नई मशीनरी और उपकरण खरीदने के लिए इक्विपमेंट फाइनेंसिंग का सहारा लिया जाता है. यह सुरक्षित या असुरक्षित लोन हो सकता है. हालांकि, कुछ कर्जदाता खरीदी गई मशीनरी को गारंटी ही मान लेते हैं. अगर डिफॉल्ट होता है तो वे अपनी मशीनरी वापस ले लेते हैं. बहरहाल, इससे कर्जदाता के लिए जोखिम कम होता है.

इक्विपमेंट लोन के लिए चुकौती की अवधि 6 महीने से 24 महीने तक हो सकती है. इक्विपमेंट फाइनेंस लोन ग्राहक की क्रेडिट प्रोफाइल पर निर्भर करेगा कि यह कितना कर्जदाता के एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया से मेल खाता है. इसके अलावा, एक अच्छा CIBIL स्कोर भी कम ब्याज दरों में अहम भूमिका अदा करता है.

प्रोडक्शन को सुचारू रूप से चलाने में काम आने वाली मशीनों की खरीद के लिए मशीनरी लोन अच्छा रास्ता है. यहां अच्छी खबर यह है कि चूंकि मशीनरी ही अपने आप में गारंटी है (कोलेटरल लोन में) तो इसे लेना आसान हो जाता है.

इक्विपमेंट लोन पाने की क्या योग्यताएं हैं?

इक्विपमेंट लोन की योग्यता के लिए कोई तय पैमाना नहीं है. लेकिन ये बुनियादी बातें हैं, जिन्हें हर कर्जदाता चेक करता है.

– बिजनेस को दो साल का वक्त हो चुका हो.
– CIBIL स्कोर कम से कम 715 हो.
– सालाना टर्नओवर 10 लाख या उससे ज्यादा हो.
– पिछले साल 2.5 लाख या उससे ज्यादा का आईटीआर भरा हो.

इक्विपमेंट लोन के लिए कौन से दस्तावेज चाहिए?

तकनीक की मदद से पहले की तुलना में अब भारत में इक्विपमेंट फाइनेंस कंपनियां आसानी से इक्विपमेंट लोन दे रही हैं. साथ ही झंझट भरी दस्तावेजी प्रक्रिया की तुलना में कर्जदाता कम कागजी कार्यवाही पर लोन लेने लगे हैं. कम दस्तावेजी जरूरतों के कारण अब बिजनेस मालिकों के लिए लोन पाना आसान हो गया है.

अगर आप इक्विपमेंट लोन ले रहे हैं तो आपको इन दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी:
– पैन कार्ड
– आईटीआर
– अड्रेस प्रूफ
– आईडी प्रूफ
– बैंक स्टेटमेंट

कैसे हासिल करें इक्विपमेंट लोन?

इक्विपमेंट फाइनेंस स्कीम का फायदा उठाने के लिए इन स्टेप्स को फॉलो करें:

– सही कर्जदाता चुनें. भारत में इक्विपमेंट के लिए लोन देने वाले कई कर्जदाता हैं. आपको ऐसा कर्जदाता तलाश करना है जो कम दस्तावेजों और बुनियादी योग्यता की शर्तों पर       सर्वश्रेष्ठ इंडस्ट्रियल इक्विपमेंट लोन मुहैया कराए. ऐसा भी कर्जदाता देखें, जिसकी ब्याज दरें कम हों, कम प्रोसेसिंग फीस और कोई छिपे हुए शुल्क न हों.

– सही कर्जदाता खोजने के बाद आप लोन के लिए अप्लाई करें. लेकिन हम आपको सलाह देंगे कि यह जांच लें कि आप कर्जदाता के योग्यता के पैमाने पर खरे उतरते हैं और          लोन अप्लाई करने से पहले आपके पास सभी जरूरी दस्तावेज हैं.

– कई कर्जदाता क्षमता को और बढ़ाने के लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हैं, जिससे ग्राहकों के लिए लोन अप्लाई करना और आसान हो जाता है. इसलिए आप ऑनलाइन      ही लोन अप्लाई कर वहीं दस्तावेज जमा कर सकते हैं.

– लोन अप्लाई करने के बाद कर्जदाता आपकी योग्यता और दस्तावेज चेक करेगा. अगर सब कुछ सही रहा तो आपका इक्विपमेंट लोन अप्रूव हो जाएगा. कुछ ही दिनों में मंजूर की     गई राशि आपके अकाउंट में आ जाएगी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*