ईपीएफ अकाउंट के एवज में होम लोन के लिए कैसे करें अप्लाई?

Home Loan against EPF

भारत में निवेश के रूप में बचत करने के लिए प्रोविडेंट फंड की शुरुआत की गई थी. कर्मचारी की बुनियादी सैलरी में से 12 प्रतिशत पीएफ कटता है, जिसमें कंपनी भी इतना ही योगदान देती है. ऐसा भी वक्त आता है, जब हमें अन्य जरूरतों के लिए फंड की जरूरत पड़ती है. यह राशि आपात स्थिति में काम आ सकती है क्योंकि इस पर ब्याज का भुगतान किया जाएगा.

सरकार वर्ष ‘2022 तक सभी के लिए घर’ की योजना को सफल बनाने के लिए कोई कमी नहीं छोड़ रही. इसलिए, ईपीएफओ के सदस्यों को अपना खुद का घर लेने के लिए रिटायरमेंट सेविंग्स का इस्तेमाल करने की परमिशन दी गई है. अगर किसी ने होम लोन के लिए अप्लाई किया है तो वह  आंशिक राशि निकाल सकता है. ईपीएफ अकाउंट पर होम लोन अप्लाई करना जल्दी लोन भुगतान करने की दिशा में एक अच्छा कदम है.

इस फायदे के साथ प्रोविडेंट फंड खाते से पैसे निकालने की कई शर्तें भी हैं, जो ये हैं:

– सबसे अहम, प्रोविडेंट फंड से राशि के इस्तेमाल के लिए आवेदक को संबंधित सेवा में पांच साल पूरे होने चाहिए. इसके अलावा, आवेदक द्वारा की गई आंशिक निकासी पूरी        तरह से टैक्स फ्री है.
– घर की खरीद, निर्माण या रेनोवेशन के लिए पैसे की निकासी की प्रक्रिया शुरू करने के लिए, आपको फॉर्म 31 भरना होगा.
– अगर कोई शख्स घर को रेनोवेट करा रहा है तो उस मामले में निकाली गई राशि के 6 महीने के भीतर घर का रेनोवेशन करना होगा.
– जिस घर की खरीद या रेनोवेशन के लिए जो पैसा निकाल रहे हैं, वह आपके, पत्नी या दोनों के नाम पर होनी चाहिए.
– पैसा निकासी के बाद 6 महीने के भीतर ही घर का निर्माण शुरू कराना जरूरी है और पैसे लिए जाने के समय से 12 महीने के भीतर यह पूरा हो जाना चाहिए.

ईपीएफ खाते पर होम लोन लेने का क्या है एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया

घर का रेनोवेशन: घर के रेनोवेशन के लिए प्रोविडेंट फंड की निकासी के लिए आवेदक को सुनिश्चित करना होगा कि प्रॉपर्टी या तो उसके नाम पर है या पत्नी के. इसके अलावा नौकरी में उसको पांच साल का वक्त हो चुका हो, तभी वह पीएफ खाते से पैसे निकाल पाएगा. इस मामले में निकासी राशि संबंधित आवेदक के मूल वेतन का 12 गुना हो सकती है.

होम लोन का भुगतान: होम लोन को जल्दी खत्म करने के लिए आवेदक से लिए सही यही है कि वह ईपीएफओ खाते से पैसा निकाल ले. लेकिन इस सुविधा का इस्तेमाल व्यक्ति सिर्फ एक ही बार कर सकता है.

घर की रिपेयरिंग: कोई शख्स अपने प्रोविडेंट फंड का इस्तेमाल घर को रिपेयर कराने के लिए भी कर सकता है. आवेदक अपने मूल वेतन का 12 प्रतिशत पीएफ खाते में से निकालकर घर को रिपेयर करा सकता है.

ईपीएफ खाते के खिलाफ कैसे अप्लाई करें होम लोन?

एम्प्लॉइज प्रोविडेंट फंड ऑर्गनाइजेशन की ऑनलाइन सुविधा के जरिए आवेदक अपना ईपीएफ एडवांस में निकाल सकता है. नीचे कुछ तरीक हैं, जिनके जरिए आप पीएफ निकासी कर सकते हैं.

– सबसे पहले ईपीएफओ के पोर्टल पर जाएं और अपना यूएएन नंबर और पासवर्ड डालें.
– इसके बाद आवेदक को ऑनलाइन सर्विसेज के टैब पर क्लिक करने के बाद क्लेम के विकल्प को चुनना है.
– क्लेम के विकल्प को चुनने के बाद आवेदक को एक अन्य पेज पर ले जाया जाएगा, जहां उसे अपना नाम, जन्मतिथि, पिता का नाम, पैन नंबर, AADHAR नंबर, कंपनी             जॉइन करने की तारीख और मोबाइल नंबर डालना है.
– जानकारी की समीक्षा करने के बाद आवेदक को Proceed for Online Claim Option पर क्लिक करना है.
– इसके बाद आप किस तरह का क्लेम करना चाहते हैं, वो टाइप करें. इसके बाद आपको PF Advance के विकल्प को (Form 31) को नीचे जाकर मेन्यू से चुनना होगा.
– अगले कदम पर, आवेदक को अपना मौजूदा एड्रेस डालना होगा.
– जरूरी जानकारियां पूरी होने के बाद आवेदक को एक डेक्लेरेशन साइन करना होगा. बाद में ऑथेंटिकेशन के लिए एप्लिकेशन के साथ-साथ GET AADHAR OTP का          विकल्प दिखेगा.
– ओटीपी को डालकर अपना क्लेम फॉर्म जमा करें.

आवेदक जो अधिकतम राशि निकाल सकता है, वह प्रोविडेंट फंड खाते में शेष राशि का 90 प्रतिशत तक है. बाकी राशि में व्यक्ति की हिस्सेदारी, ब्याज, और नियोक्ता के योगदान और ब्याज की हिस्सेदारी शामिल होगी. किसी भी स्थिति में अगर घर के निर्माण का फैसला बदलता है या फिर आवेदक को घर का अलॉटमेंट नहीं मिलता तो पैसा 30 दिनों के भीतर ईपीएफओ को लौटा होगा.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*