कोविड-19 महामारी के बाद ऐसे पटरी पर लाएं अपने बिजनेस को

Bring Your Business Back On Track Post COVID-19 Pandemic

इसमें कोई शक नहीं कि कोरोनावायरस (कोविड-19) [coronavirus (Covid-19)] ने दुनियाभर में बिजनेस पर बुरी तरह असर डाला है. खासकर छोटे व्यापार, इस महामारी में खुद को बचाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं. इतना ही नहीं, यह कहना गलत नहीं होगा कि इन कंपनियों को कोरोना से पहले वाली स्थिति तक पहुंचने में लंबा वक्त लगेगा. हालांकि एंटरप्रेन्योर्स, खासकर छोटे उद्यमों को फिक्र करने की जरूरत नहीं है. ऐसा कोई संकट नहीं है जिसमें काम नहीं किया जा सकता है और COVID-19 अलग नहीं है. नीचे हम आपको कुछ तरीके बता रहे हैं, जिनके जरिए छोटे कारोबारी कोविड-19 महामारी के बाद अपना बिजनेस दोबारा खड़ा कर सकते हैं.

कितना वित्तीय नुकसान हुआ है, इसकी गणना करें

यह पहला कदम है, जो संकट के बाद बिजनेस को खुद को खड़ा करने में मदद करेगा. महीनों के लॉकडाउन के बाद बिजनेस को कितना वित्तीय नुकसान हुआ है, इसका आकलन करने के बाद ही उसे दोबारा खड़ा किया जा सकता है. सबसे पहले बिजनेस को कैश फ्लो, प्रॉफिट या लॉस को लेकर पूरी जानकारी होनी चाहिए. इससे यह मालूम चल जाएगा कि पिछले साल बिजनेस में कितना मुनाफा या हानि हुई और इस साल बिजनेस कितना पीछे हो गया है. यह उन ग्राहकों के लिए भी एक अच्छा विचार होगा जो मार्केटिंग और विज्ञापन लागत में कटौती के कारण प्रतियोगियों के पास चले गए हैं.

सामान बेचने के लिए तलाशें नए रास्ते

कोविड-19 महामारी ने यकीनन लोगों के खरीदने के बर्ताव में बदलाव किया है. कारोबार खासकर छोटे को भी अपने कामकाज के पैटर्न में बदलाव लाना होगा. भले ही लॉकडाउन खत्म हो गया है लेकिन फिर भी भीड़भाड़ वाली जगहों और स्टोर्स पर जाने में लोग हिचकेंगे. बिजनेस एग्जीक्यूटिव्स भी कॉन्फ्रेंस और ट्रेड शोज को नजरअंदाज करेंगे. जो ऑर्गनाइजेशन्स लोगों से लोगों के बीच संवाद पर बहुत ज्यादा निर्भर रहती हैं, उन्हें अपने उत्पादों और सेवाओं को सुधारने के नए तरीके सोचने होंगे.

फंड्स जुटाएं

आम मौकों पर भी छोटे कारोबारों को अपने संचालन के लिए कैश जुटाने में मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा. इसलिए उनसे इस गंभीर आपातकाल में नकदी की व्यवस्था करने की उम्मीद करना ज्यादा हो जाएगा. संभव है कि छोटे व्यवसायों को अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए असुरक्षित वर्किंग कैपिटल लोन की जरूरत होगी, जबकि वे महामारी के प्रभाव से बाहर आने की कोशिश करेंगे. भारत में क्विक बैड क्रेडिट बिजनेस लोन्स और ऑनलाइन स्मॉल बिजनेस लोन्स ऐसे वित्तीय विकल्प हैं, जो कारोबारों को दोबारा कोविड महामारी के बाद ट्रैक पर वापस लाने में मदद करेंगे.

ग्राहकों को सूचित करें

कारोबार, विशेष रूप से छोटे वाले, यह नहीं भूलना चाहेंगे कि भले ही लोगों का खरीद व्यवहार सबसे ज्यादा बदल जाएगा, लेकिन उनके पुराने ग्राहक हमेशा कुछ फायदों के लिए तरसेंगे, जो उन्हें आपसे मिलते थे. इसलिए यह जरूरी है कि छोटे कारोबारी अपने ग्राहकों को बताएं कि बिजनेस फिर से शुरू हो चुका है और चल रहा है. बेहतर यह भी होगा कि आप उन्हें कोविड-19 के बाद उठाए जाने वाले कदमों के बारे में जानकारी दें. कुछ ग्राहक ऐसे भी हैं, जो छोटे और स्थानीय कारोबारियों की मदद करना चाहते हैं, जिन्होंने इस संकट का मजबूती से सामना किया है और अब वापसी कर रहे हैं.

 

ऊपर बताए गए तरीके सुनिश्चित करेंगे कि व्यवसायों, विशेष रूप से छोटे कारोबार, लॉकडाउन हटाए जाने से पहले अच्छी तरह से तैयार हैं और अर्थव्यवस्था फिर से खुल सकती है. इससे न सिर्फ संचालन को दोबारा शुरू करने में मदद मिलेगी बल्कि बाजार में टिकने और दोबारा कामयाबी मिलने के चांस भी बढ़ेंगे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*