स्टैंप ड्यूटी में रियायत से टैक्स में छूट तक, ये हैं महिलाओं के नाम पर घर खरीदने के फायदे

रियल एस्टेट में महिलाओं की संख्या को बढ़ाने और भारत के कई राज्यों में महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के लिए महिला प्रॉपर्टी खरीददारों को कई फायदे दिए जा रहे हैं. इसलिए महिलाओं के नाम पर प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन एक अच्छा फैसला है क्योंकि इससे आपको कई फायदे मिलेंगे. आइए आपको इन फायदों और इनका लाभ कैसे लिया जा सकता है के बारे में विस्तार से बताते हैं.

पत्नी के नाम पर घर, मिलेगी टैक्स में छूट

पत्नी के नाम पर घर खरीदने से आपको टैक्स में फायदे मिलेंगे. आपको हर वित्तीय वर्ष में 1.5 लाख रुपये तक की अतिरिक्त छूट मिलेगी. अगर प्रॉपर्टी में आपकी पत्नी को-ओनर हैं. अगर कोई पुरुष संपत्ति में अपनी पत्नी को सह-मालिक बनाता है और अगर पत्नी की आय का अलग स्रोत है, तो दोनों को अलग-अलग टैक्स छूट मिलेगी.

लेकिन टैक्स छूट इस पर निर्भर करती है कि हर को-ओनर का ओनरशिप शेयर कितना है. इसलिए इस मामले में उपलब्ध टैक्स छूट हर व्यक्ति के तौर पर दोगुना हो सकता है.

 

महिलाओं के लिए होम लोन ब्याज दर पर छूट

कई होम लोन फाइनेंस कंपनियां महिला घर ग्राहकों को अतिरिक्त छूट और ऑफर्स देते हैं. ये छूट बयाज दरों और अन्य चार्जेज पर भी उपलब्ध होती हैं. महिलाओं के लिए ये डिस्काउंट और ऑफर्स हर बैंक में अलग-अलग होते हैं. लेकिन पुरुषों की तुलना में होम लोन लेने वाली महिलाओं को अतिरिक्त छूट दी जाती है.

इस फायदे का लाभ लेने के लिए एक शख्स को मार्केट में विभिन्न कर्जदाताओं के होम लोन के विवरण की अच्छी तरह तुलना करनी पड़ेगी. कर्जदाताओं की वेबसाइट पर जाकर भी आप इसे चेक कर सकते हैं. उदाहरण के तौर पर एसबीआई महिलाओं को होम लोन 8.7-9.25 प्रतिशत पर देता है, जबकि पुरुषों को 8.75 प्रतिशत से 9.35 प्रतिशत पर.

 

See also: क्या हैं होम लोन लेने के फायदे, समझिए

 

स्टैंप ड्यूटी पर छूट

प्रॉपर्टी की बिक्री या ट्रांसफर पर आपको सरकार को स्टैंप ड्यूटी चुकानी पड़ती है. यह राज्य सरकार का विषय है और विभिन्न राज्यों में स्टैंप ड्यूटी की दर 4-8 प्रतिशत के बीच होती है. स्टैंप ड्यूटी चार्जेज चुकाए बिना आप प्रॉपर्टी को अपने नाम पर क्लेम नहीं कर सकते. इसलिए देश में कहीं भी प्रॉपर्टी खरीदने के बाद स्टैंप ड्यूटी चुकानी बहुत जरूरी है.

वहीं अगर बात महिला घर खरीददारों की करें तो उन्हें स्टैंप डयूटी की दरों पर भी छूट मिलती है.

उदाहरण के तौर पर दिल्ली में महिलाओं घर ग्राहकों को 4 प्रतिशत स्टैंप डयूटी चुकानी पड़ती है जबकि पुरुषों को 6 प्रतिशत. इसलिए फर्क 2 प्रतिशत का है. लेकिन जब आप अपनी प्रॉपर्टी की कुल लागत का 2 प्रतिशत कैलकुलेट करते हैं तो यह राशि बड़ी होती है. स्टैंप ड्यूटी पर छूट से काफी संख्या में पुरुष और महिलाओं को प्रोत्साहन मिल रहा है और वे महिलाओं के नाम पर प्रॉपर्टी रजिस्टर करा रहे हैं.

इन बातों को न करें नजरअंदाज

महिलाओं के नाम पर घर खरीदने के कई फायदे हैं और मौद्रिक तौर पर यह शानदार फैसला है. महिलाओं को ये फायदे मिलते हैं: होम लोन कम महंगा हो जाता है क्योंकि उन्हें कम ब्याज दरों पर लोन मिलता है. उन्हें स्टैंप ड्यूटी पर रियायत मिलती है, टैक्स में छूट मिलती है और साथ ही अन्य ऑफर्स. इसलिए ज्यादा फायदा उठाने के लिए आज ही अपनी पत्नी के नाम पर लोन लें.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*