पहली बार पर्सनल लोन के लिए कर रहे हैं अप्लाई तो इन बातों का रखें ध्यान

क्या आपका दिल किसी सुपर बाइक या ग्रीस की ट्रिप पर आ गया है. क्या आप परियों की कहानी जैसी शादी करना चाहते हैं लेकिन खर्च बहुत ज्यादा है. कभी-कभी खर्चे इतने बढ़ जाते हैं कि आप हैरान रह जाते हैं. यही वक्त होता है पर्सनल लोन लेने का.

क्या होता है पर्सनल लोन?

पर्सनल लोन ऐसे लोन होते हैं तो आपके नियोजित और अनियोजित खर्च को कवर करता है. कई बार बेहद सावधानी से प्लानिंग करने के बाद भी कुछ खर्चे निकल ही आते हैं. यह परिवार की कोई मेडिकल इमरजेंसी हो सकती है या फिर दोस्तों के साथ कोई ट्रिप, जिसके लिए आपके पास बजट नहीं होता. ऐसे खर्चे आपके लिए बड़े साबित हो सकते हैं. सैलरी खत्म होने के बाद पैसों की कमी होती ही है और अनियोजित खर्चे आपको मुसीबत में डाल सकते हैं. ऐसे में पर्सनल लोन आपको बचा सकते हैं.

पर्सनलाइजेशन और कस्टमाइजेशन के दौर में पर्सनल लोन में भी काफी बदलाव आए हैं. ये आपकी पैसों की जरूरतों का ख्याल रखता है. लेकिन अब कर्जदाता एक कदम आगे बढ़ गए हैं और उन्होंने ऐसे पर्सनल लोन डिजाइन किए हैं, जो आपकी हर जरूरत पर खरे उतरते हैं.

उदाहरण के तौर पर, अगर आप ड्रीम होम किराये पर लेना चाहते हैं और मासिक किराया भी मैनेज कर सकते हैं लेकिन रेंटल डिपॉजिट को लेकर उधेड़बुन में हैं तो आप रेंटल डिपॉजिट लोन चुन सकते हैं. अगर आप ड्रीम वेडिंग करना चाहते हैं और शादी के दिन के लिए कोई कमी नहीं छोड़ना चाहते तो मैरिज लोन ले सकते हैं. वहीं अगर आप थोड़े ज्यादा पैसे खर्च कर नॉर्दन लाइट्स देखना चाहते हैं तो ट्रैवल लोन ले सकते हैं.

पर्सनल लोन के दो पहलू होते हैं, जिसमें से किसी एक को चुनने के लिए आपको हर बात समझने की जरूरत है. सबसे पहले तो ये कि आप इस लोन (जब तक कि आपने कोई खास लोन न लिया हो) को किसी भी जगह इस्तेमाल कर सकते हैं. दूसरा पहलू यह है कि आपको संपत्ति से जुड़ा कोई दस्तावेज कैश, गोल्ड या कोई और चीज गिरवी नहीं रखनी पड़ती.

बाजार में कई तरह के पर्सनल लोन क्यों हैं?

अब आपके दिमाग में सवाल उठ रहा होगा कि जब आप पर्सनल लोन लेते हैं तो खास तरह के लोन लेने का क्या मतलब? इसका जवाब बहुत आसान है. पर्सनल लोन आपकी जरूरतों को पूरी करते हैं और बाकी के लोन आपकी खास जरूरतों को पूरा करते हैं. इसमें अवधि की शर्तें, ब्याज दरें लचीली होती हैं. इन लोन्स की खासियतें और अनुकूलता के कारण कर्जदाता आपको मनचाही अवधि, ब्याज दरें और भुगतान के तरीके मुहैया कराते हैं. उदाहरण के तौर पर, वेडिंग लोन्स के मामले में आपकी मासिक किस्त लचीली होंगी और आप पहले 5 महीनों में अमाउंट को कम रख सकते हैं क्योंकि शादी में पहले ही काफी खर्चे होते हैं. बड़े-बड़े खर्चे पूरे होने के बाद आप आसानी से रेग्युलर ईएमआई पर स्विच कर सकते हैं.

पहली बार पर्सनल लोन अप्लाई करते वक्त क्या बातें याद रखनी चाहिए?

अपना क्रेडिट स्कोर चेक करें: क्रेडिट स्कोर वो फैक्टर है, जो तय करता है कि आप लोन के काबिल हैं या नहीं. कितना लोन कितनी ब्याज पर मिल सकता है. अगर आप पहली बार पर्सनल लोन ले रहे हैं तो जाहिर है कि आप क्रेडिट स्कोर के बारे में नहीं जानते होंगे. इतना ही नहीं आपकी कोई क्रेडिट हिस्ट्री भी नहीं होगी. सुनिश्चित करें कि आपका अच्छा क्रेडिट स्कोर हो. आप अपनी क्रेडिट रिपोर्ट किसी रेटिंग एजेंसी की मदद से फ्री में या मामूली शुल्क देकर चेक कर सकते हैं.

हमेशा पर्सनल लोन लेने के काबिल बने रहना चाहते हैं, जानिए क्या हैं तरीके

आमतौर पर इस्तेमाल होने वाली वित्तीय भाषा को समझें

आपको फाइनेंशियल एक्सपर्ट होने की जरूरत नहीं. लेकिन आप कुछ आसान शब्दों को समझकर ही बेहतर कर्जदाता चुन सकते हैं. आपको मालूम होना चाहिए कि ईएमआई क्या होती है, इंट्रस्ट कंपाउंड क्या होता है. इस बात को लेकर अवगत रहें कि लोन देने वाला आपके पर्सनल लोन के ब्याज की कैलकुलेशन कैसे करता है, उस ब्याज दर की कैलकुलेशन करें, जो आपके लिए बेस्ट हो ताकि आप कहीं ज्यादा न चुका बैठें.

सही कर्जदाता चुनें

ऐसे कई बैंक और गैर-बैंकिंग कंपनियां हैं, जो पर्सनल लोन देती हैं. हर कोई दूसरे के मुकाबले बड़े दावे करता है. इसलिए आपके लिए यह समझना जरूरी है कि पर्सनल लोन क्यों लेना है, क्या ब्याज दर है, पुनर्भुगतान में कितना लचीलापन है, कितनी जल्दी लोन की राशि आपको मिल जाएगी, रीपेमेंट क्लॉज और फोरक्लोजर चार्जेज क्या हैं. विभिन्न कर्जदाताओं की तुलना इन पैमानों पर जरूर करें ताकि आप कोई भी निर्णय करने से पहले सभी नियमों को समझ लें.

लोन की अवधि चेक करें

सही कर्जदाता चुनते वक्त यह भी अहम फैक्टर है क्योंकि लंबी लोन अवधि से आपको राहत मिलती है और लोन चुकाने में लचीलापन. अधिकतर कर्जदाताओं की लोन अवधि 24-36 महीने होती है.

दस्तावेजों को एक जगह रखें

सभी दस्तावेज आपके पास होने चाहिए ताकि लोन एप्लिकेशन प्रोसेस में समय कम लगे और लोन की राशि जल्दी आपके खाते में आ जाए. अगर दस्तावेज सही हुए तो अगले ही दिन पैसे आपके अकाउंट में आ जाएंगे. अगर आपसे कर्जदाता कम दस्तावेज मांगता है तो भी आपके लिए अच्छा है.

अन्य फीस और चार्जेज

आपको लोन पर प्रोसेसिंग चार्जेज और इसकी कैलकुलेशन कैसे होती है, इसकी जानकारी होनी चाहिए. इसके अलावा कुल लोन राशि और पुनर्भुगतान पर लगने वाले विभिन्न शुल्कों के बारे में साफ तौर पर जान लें. लोन इंश्योरेंस भी एक अहम कारक है. अगर आप किसी कारण से लोन चुका नहीं पाते तो लोन इंश्योरेंस ही लोन राशि को कवर करता है.

लोन अग्रीमेंट को समझें

लोन के नियम व शर्तों को ध्यान से पढ़ लें ताकि आगे चलकर आपको पछतावा न हो. चूंकि आप पहली बार पर्सनल लोन ले रहे हैं इसलिए जरूरी है कि आप सबसे अच्छा, सबसे सस्ता, सबसे तेज़ और बिना झंझटों वाले रीपेमेंट मोड का पता लगाएं. आप eNACH पर साइन अप कर सकते हैं. यह एक इलेक्ट्रॉनिक प्रोसेस है जो आपकी पेमेंट को बैंक के जरिए स्वचालित करती है. इसके अलावा आप बैंक को निर्देश देकर एक तारीख तय कर सकते हैं, जिस दिन आपके अकाउंट से किस्त कट जाए. इस तरह से आपको विलंबित भुगतानों को लेकर परेशान नहीं होना पड़ेगा. बकाया राशि आपके क्रेडिट स्कोर पर बुरा असर डालती हैं इसलिए ऑटोमैटिक पेमेंट्स एक सुरक्षित विकल्प है. पर्सनल लोन की पहली यात्रा में ये टिप्स आपके काम आएंगे. जानकारी होने से यह यात्रा आसान हो जाएगी और भविष्य में लोन के लिए अप्लाई करते वक्त आपमें आत्मविश्वास रहेगा. लेकिन साथ ही आपको रिजेक्शन के लिए भी तैयार रहना होगा. कुछ मामलों में, कर्जदाता आपको लोन देने से ही मना कर देते हैं.

क्यों पहली बार पर्सनल लोन लेने वालों की एप्लिकेशन रिजेक्ट हो जाती है?

– कम क्रेडिट स्कोर
– कम सैलरी या आय की श्रेणी में आने के कारण.
– आय के दस्तावेजों में अनियमितता या गड़बड़ी होना.
– एप्लिकेशन में गलत या अधूरी जानकारी होना.
– कई लोन एप्लिकेशन या पूछताछ (इससे आपके क्रेडिट स्कोर और लोन एलिजिबिलिटी पर असर पड़ता है)

इसलिए, अपने क्रेडिट स्कोर पर नजर बनाए रखें, सही कर्जदाता चुनें, नियम व शर्तों को ध्यान से पढ़ लें और डॉक्युमेंटेशन पर नजर बनाए रखें. इस तरह से आपके पहले पर्सनल लोन के मंजूर होने के काफी ज्यादा चांस हैं.

छोटे एवं मध्यम उद्योग के लिए बिजनेस लोन कम ब्याज दरों पर कैसे पाएं?

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*