क्या होता है कम अवधि का व्यापार ऋण और लोन फंडिंग, जानिए

बतौर बिजनेस मालिक, आपको अपनी कंपनी के लिए फंड का इंतजाम करने के लिए घंटों रिसर्च करना चाहिए. लोन फंडिंग के लिए वास्तव में कई फीचर्स आपकी लिस्ट में होने चाहिए. इससे पहले कि हम लोन फंडिंग की गहराई से उतरें, आइए समझते हैं कि इसका क्या मतलब है.

परिभाषा के मुताबिक, लोन फंडिंग एक बिजनेस लोन होता है, जिसका इस्तेमाल वर्किंग कैपिटल को फंड देने या खास संपत्ति खरीदने के लिए किया जाता है. निवेश या तो शॉर्ट टर्म या लॉन्ग टर्म हो सकता है. लोन फंडिंग का स्वरूप जो भी हो, कर्ज लेने वाले (यहां एक छोटा बिजनेस) को लोन चुकाने के लिए मूलधन के साथ-साथ लोन पर ब्याज भी चुकाना होगा.

ज्यादातर मामलों में, छोटे बिजनेस लॉन्ग टर्म की जगह शॉर्ट टर्म लोन फंडिंग को पसंद करते हैं. इन लोन में आम तौर पर 12-24 महीनों की मैच्योरिटी होती है और लॉन्ग टर्म कमिटमेंट के बिना पैसों की तुरंत जरूरत को पूरा करने में मददगार होती है.

क्यों छोटी अवधि के लिए कर्ज लेना सही है?

शॉर्ट टर्म लोन ऐसे बिजनेस के लिए होते हैं, जो मौसमी होते हैं या फिर जब सब कुछ सही न चल रहा हो तब वह सुरक्षा चक्र का काम करते हैं. भले ही मुश्किलें छोटी हों, आपकी कमाई में रुकावट पर हमेशा जोखिम रहता है. कुछ मामलों में तो आपको दुकान बंद करनी पड़ जाती है. ऐसी स्थिति में तुरंत फाइनेंसिंग की जरूरत होती है. आज ज्यादातर कर्जदाताओं के पास लोन वितरण प्रणाली होती है, जो काफी आसान है. दस्तावेज जमा करने के कुछ ही दिनों बाद आपके अकाउंट में पैसे आ जाते हैं.

कई बार, अस्थायी मुद्दों पर भी फंड की कमी हो जाती है, जिससे पेरोल और अन्य खर्चे रुक जाते हैं. या फिर आपको क्लाइंट से पेमेंट का इंतजार रहता है. लेकिन याद रहे कि आपको बिल भी भरने हैं और उसमें आप कितनी देरी कर पाएंगे? इस मामले में कम अवधि का लोन तुरंत मिलता है, जिससे कैश फ्लो बना रहता है और बिजनेस भी सुचारू रूप से चलता रहता है.

शॉर्ट टर्म बिजनेस लोन के लिए कैसे करें क्वॉलिफाई

शॉर्ट टर्म बिजनेस लोन के लिए आपको बैंक या किसी अन्य कर्जदाता को सही दस्तावेज देने होंगे. एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया हर कर्जदाता के अलग-अलग होते हैं. चूंकि हर बिजनेस अलग होता है इसलिए विश्वसनीयता का पैमाना एक नहीं हो सकता. इसलिए 700 से ज्यादा का CIBIL जरूरी होता है. कई कर्जदाताओं की अपनी क्रेडिट मूल्यांकन प्रक्रिया होती है. असुरक्षित बिजनेस लोन या पर्सनल लोन के लिए दस्तावेजों की बहुत कम जरूरत होती है और योग्यता का पैमाना भी आसान होता है.

नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी बिजनेस लोन लेने के लिए क्या है योग्यता:

– पिछले 12 महीने में कम से कम 10 लाख रुपये का टर्नओवर
– पिछले साल का आईटीआर, जो कम से कम 1.5 लाख रुपये से ज्यादा हो.
– या तो घर या फिर बिजनेस परिसर व्यापारी के नाम पर हो.
– बिजनेस परिसर घर से अलग हो.
– बिजनेस को कम से कम दो साल का वक्त हो चुका हो.

एनबीएफसी बिजनेस लोन के लिए जरूरी दस्तावेज:-

– पैन कार्ड
– पिछले 9 महीने की बैंक स्टेटमेंट
– पिछले 2-3 साल के आईटीआर
– रिहायशी प्रूफ
– बिजनेस परिसर का अड्रेस प्रूफ

शॉर्ट टर्म लोन फाइनेंसिंग के फायदे:-

जिन व्यापारियों को जल्दी पैसा चाहिए, उनकी सबसे बड़ी चिंता यह होती है कि क्या छोटी अवधि के लिए कर्ज लेना सही है. आइए आपको बताते हैं ताकि सारे शंकाएं दूर हो जाएं.

कम ब्याज दर

छोटी अवधि के लोन कम ब्याज दर ऑफर करते हैं वो भी मामूली प्रोसेसिंग फीस पर. यह एक बड़ा फायदा है. इसके अलावा, छोटे व्यापारी लोन जल्दी चुका देते हैं इसलिए वे बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों द्वारा ऑफर किए गए लंबी अवधि के पारंपरिक निवेश से दूरी बना लेते हैं.

जल्द मंजूरी

छोटी अवधि वाले कर्ज उन लोगों के लिए फायदेमंद होते हैं, जिन्हें जल्द कैश चाहिए होता है. अगर फॉर्म भरते वक्त सारे दस्तावेज जमा करा दिए गए हैं तो 3 दिनों में लोन मिल जाता है. जब आप अप्रत्याशित खर्चों या किसी मौसमी उतार-चढ़ाव को लेकर नकदी की कमी को दूर करना चाहते हैं तो यह फायदेमंद है.

शर्तों में लचीलापन और कम थकाऊ:

छोटी अवधि के कर्ज का फायदा यह भी है कि यह काफी सहूलियत और लचीलापन देता है. आप सिर्फ एक क्लिक करके लोन ऑनलाइन भी अप्लाई कर सकते हैं. अब तो कई कर्जदाताओं की अपनी वेबसाइट है. इसके अलावा आप अपनी सहूलियत के हिसाब से लोन की पुनर्भुगतान अवधि 12 से 24 महीने के बीच चुन सकते हैं. चूंकि आपके पास एक विस्तार वाली अवधि के लिए कर्ज देने वाले के पैसे को बकाया और वर्षों में ब्याज जोड़ने का दबाव नहीं है, इसलिए यह आपको टेंशन फ्री रखता है.

कैश फ्लो सुधारता है: बिजनेस में कब क्या हो जाए, कुछ कहा नहीं जा सकता. आज धूप है तो कल छांव. मौसमी उतार-चढ़ाव हर किसी के साथ होते हैं. आप चाहे कितनी ही प्लानिंग कर लें लेकिन कई बार आपातकालीन स्थिति सारी मेहनत पर पानी फेर देती है. छोटी अवधि के कर्ज से आप सप्लायर्स के बिल और अन्य संचालन लागत को पूरा कर सकते हैं.

बिजनेस के विस्तार में मदद: बतौर बिजनेसमैन आप अपनी कंपनी को बुलंदी की ऊंचाइयों तक ले जाना चाहते हैं. आप एक बड़ी जगह रेंट पर लेना, अतिरिक्त उपकरण और ज्यादा लोगों को नौकरी पर रखना चाहते हैं. एक ऐसा वक्त आता है, जब आप पूरी जान लगाकर अपने बिजनेस को फैलाने में जुट जाते हैं. लेकिन कैश की कमी आपको रोक देती है. लेकिन आपके जो भी प्लान्स हों, एक्स्ट्रा फंडिंग ग्रोथ के लिए जरूरी होती है. छोटी अवधि के कर्ज से आप वो हर चीज ले सकते हैं, जो आपके बिजनेस के विस्तार के लिए जरूरी है.

क्रेडिट हिस्ट्री में सुधार

कम अवधि के लोन आपकी क्रेडिट हिस्ट्री को भी बेहतर करते हैं. चूंकि इस तरह के लोन की लंबी पुनर्भुगतान अवधि नहीं होती इसलिए आप पैसा भी जल्द वापस चुका देते हैं. अगर आप समय पर लोन चुका देते हैं तो आपकी क्रेडिट हिस्ट्री बेहतर होती है, जिससे आप भविष्य में भी लोन ले पाएंगे.

सौ बात की एक बात. बिजनेस को सुचारू रूप से चलाने के लिए कम अवधि के लोन छोटे व्यापार के लिए बहुत फायदेमंद है. अगर ये लोन न हो तो न ही आप इन्वेंट्री ले पाएंगे, वर्किंग कैपिटल की कमी पूरी कर पाएंगे औ न ही ग्राहकों की संख्या और संचालन को बढ़ा पाएंगे. जैसा कहा जाता है कि छोटी सी मदद भी बड़े सपने पूरे कर देती है. इसलिए इसका फायदा उठाएं और अपनी जिंदगी का सपना पूरा करें.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*